न्यायालय में हुआ बड़ा खुलासा : 50 करोड़ नही देने पर बापू आसारामजी को भिजवाया जेल

अनुसूचित जाति जनजाति अदालत के पीठासीन अधिकारी मधुसुदन शर्मा आरएचजेएस की अदालत में हिन्दू संत आसारामजी बापू के केस में बचाव पक्ष की अंतिम बहस जारी रही।  जिसमें अधिवक्ता सज्जनराज सुराणा जी ने इस बार ऐसे खुलासे किए जिससे षडयंत्र की परतें खुल गई हैं ।

अधिवक्ता सुराणा जी ने न्यायालय में चल रही बहस के कुछ अंश मीडिया के सामने उजागर करते हुए बताया कि DW-12 गुड़िया नाम की लड़की के बयान कोर्ट में रीड किये गए । जिसमें उसने खुलासा किया कि बापू आसारामजी को फंसाने वाले राहुल सचान, महेंद्र चावला आदि अन्य गवाह कितने निम्न चरित्र के हैं, जुआ खेलना, शराब पीना, घर को गिरवी रख देना,बेच देना आदि दुर्गुणों से ग्रस्त ये लोग महिलाओं के साथ छेड़खानी के कारण कई बार पीटे भी गये हैं ।

इसके अलावा इस मामले में DW-13 योगेश भाटी नाम के व्यक्ति के बयान भी पढ़े गए । अपने बयानों में योगेश भाटी ने बताया कि बापू आसारामजी एक सच्चरित्र व्यक्ति हैं। उनके समाजहित के अतुलनीय कार्यों के कारण उन्हें राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यपाल आदि के द्वारा प्रशस्ति पत्र भी दिए गए हैं । प्रशस्ति पत्र इस बात के दिये गए कि उस जमाने में जब ओपन शौचालय थे तो बापू आसारामजी द्वारा जगह-जगह पर शौचालय बनवाये गए थे, जिसकी तत्कालीन गवर्नर ने भी भूरि-भूरि प्रशंसा की थी ।

राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आजाद जी द्वारा दिये गए प्रशस्ति पत्र में उन्होंने कहा कि संत आसाराम बापू एक बहुत ही उच्च विचारों के व्यक्ति हैं, वो सदैव समाज सेवा में जुटे हुए हैं । इसके अलावा बापू आसारामजी ने वृक्ष लगाने के लिए अभियान छेड़ा, धर्म परिवर्तन पर रोक लगवाई, वेलेंटाइन डे की जगह मातृ-पितृ पूजन दिवस जैसी अनोखी पहल शुरू की, जिसका हाल ही में सरकार द्वारा भी समर्थन किया गया । इस प्रकार से 142 से 154 तक डॉक्युमेंट्स मौजूद हैं जिनमें बड़ी-बड़ी हस्तियों ने संत आसारामजी बापू द्वारा हुए सेवाकार्यों की भूरि-भूरि प्रशंसा की है । यहाँ तक कि कमलनाथ जी का भी नाम उसमें शामिल है और उपराष्ट्रपति भैरोसिंह शेखावत व अन्य मुख्यमंत्रियों आदि के प्रशस्ति पत्र भी मौजूद हैं ।

समाज में बापू आसारामजी की छवि धूमिल करने के लिए और चरित्र हनन करने के लिए एवं उनके बेटे नारायण और बेटी भारती को बदनाम करने के लिए झूठी कहानी गढ़ी गई है ।

50 करोड़ की फिरौती के लिए रचा गया षड्यंत्र..

वरिष्ठ अधिवक्ता सज्जनराज सुराणा ने साजिश का खुलासा करते हुए आगे बताया कि Prosecution Witness PW-06 मणाई फार्म हाउस के मालिक रामकिशोर ने ये कहीं नहीं कहा कि 15/08/2013 को लड़की या उसके माता-पिता रात्रि को 10 बजे कुटिया या कुटिया के आस-पास गए तो फिर जो रेप कमिट हुआ क्या वो हवा में रेप कमिट हुआ ? इन्होंने उसके existence को ही नकार दिया । 

अब question ये पैदा होता है कि ये लड़की आखिर आरोप क्यों लगा रही है ? इसके लिए हमने जिज्ञासा भावसर का स्टेटमेंट रीड किया । इसमें अमृत प्रजापति, कर्मवीर, राहुल सचान, महेंद्र चावला आदि जो बहुत से गवाह थे उन्होंने मिलकर conspiracy (षड़यंत्र) की । योग वेदान्त सेवा समिति अहमदाबाद को एक फैक्स भेजा था जिसमें अमृत प्रजापति व उनके साथियों के द्वारा ये कहा गया था कि 50 करोड़ रुपये दो वर्ना उसके परिणाम भुगतने के लिए तैयार हो जाओ । हम झूठी लड़कियां तैयार करेंगे, प्लांट करेंगे जिसके कारण बापूजी जिंदगी भर तक जेल में रहेंगे कभी बाहर नहीं आ सकेंगे ।>

इस बात के लिए conspiracy वडोदरा (गुजरात) में की गई थी | जिसमें दीपक चौरसिया (इंडिया न्यूज़) भी शामिल था जो मीडिया के ऊपर प्रचार प्रसार कर रहा था, कर्मवीर (परिवादिया का पिता) भी शामिल था । सबने मिलकर जो conspiracy की थी वो जिज्ञासा भावसार के सामने की थी | इन सबका जो एक motive था, वो 50 करोड़ की ब्लैकमेलिंग का था । 50 करोड़ नहीं देने के कारण से मणाई गाँव का पूरा घटनाक्रम बनाया गया है ।

डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी ने भी कई बार खुलासा किया है कि बापू आसारामजी को धर्मपरिवर्तन पर रोक लगाने और लाखों हिन्दुओं की घरवापसी कराने के कारण जेल भिजवाया गया है ।

Comments

Write a Comment

Related Articles